Ram Aarti

Lyrics of Ram Aarti

Ram Aarti
आरती कीजे श्री रामचंद्र की | दशदलन सीतापति जी की ||
पाहली आरती पुष्पन की माँ | कालि नाग नाथ लाये गोपला ||
आरती कीजे श्री रामचंद्र की | दशदलन सीतापति जी की ||
दसारी आरती देवकी नंदन | भक्त उबरन कंस निकंदन ||
आरती कीजे श्री रामचंद्र की | दशदलन सीतापति जी की ||
तिसारी आरती त्रिभुवन मोहे | रत्न सिंहासन सीता राम जी सोहे ||
आरती कीजे श्री रामचंद्र की | दशदलन सीतापति जी की ||
चौथि आरती चहु युग पूजा | देव निरंजन सवामी और ना दूजा ||
आरती कीजे श्री रामचंद्र की | दशदलन सीतापति जी की ||
पञ्चवी आरती राम को भाव | रामजी का यश नामदेवजी दिया ||
आरती कीजे श्री रामचंद्र की | दशदलन सीतापति जी की ||

How to Use:- For Ramchandra Arti, take bath then lighten the lamp or earthen the lamp(best), offer some sweets and start chanting the Arti. Chant Ramchandra Arti in morning, best time is before 6:00 AM.

Aarti Sangrah


Wallpapers

© Copyright 2013 | All Rights Reserved | www.bhagvanpics.com